Fabriclore: ने 6 साल के अंदर खड़ी की 300 करोड़ की कंपनी!

Dharm Kushwah

Fabriclore: एक जयपुर स्थित स्टार्टअप है जिसकी स्थापना मैं अनुपम श्रीवास्तव, विकास राठी, संदीप शर्मा, ने की थी इन तीनों ने अपने पिछले कम को छोड़कर फैब्रिक इंडस्ट्री में उतारने का निर्धन लिया क्योंकि इसमें बहुत से अवसर है उन्होंने अपने बिजनेस का नाम फैब्रिकलोर रखा और फैब्रिक  लोर मिला-जुला शब्द है।

    1. अनुपम श्रीवास्तव: यह जयपुर के रहने वाले हैं लेकिन उन्होंने अपनी शिक्षा और काम दोनों ही दिल्ली में शुरू किए थे उन्होंने ANIT दिल्ली से इंजीनियरिंग की है और उनका पिछला डिजिटल मार्केटिंग कंपनी में काम था।
    2. विकास राठी: यह भी जयपुर के रहने वाले हैं लेकिन उन्होंने अपनी शिक्षा और काम बेंगलुरु में किया है, उन्होंने IIM बंगलोर से MBA की है और उनका पिछला काम एक फाइनेंसियल टेक्नोलॉजी कंपनी मैं था।
  • संदीप शर्मा: संदीप शर्मा दिल्ली के रहने वाले हैं, लेकिन उन्होंने अपनी शिक्षा और काम जयपुर में किया है, उन्होंने MBA की है और उनका पिछला काम एक फैशन रिटेल कंपनी में था।

Fabriclore: की कैसे हुई शुरुआत!

Fabriclore: की शुरुआत नए आइडिया और एक अच्छी टीम और लगन से और काफी रंगों को साथ में जोड़कर जो की  बाहर से लाए जाते हैं उनको जोड़कर बनाया जाता है ऑर्मार्केटिंग मैं भेज दिया जाता है और साथ ही इसको सोसल मीडिया और ऑनलाइन वेबसाइट के जरिए जग जग पहुंचाया जाता है।

ये भी पढ़ें: Adil Kadri ki dasta देखिए व्यापारी का जादू अदिल कादरी का सफर शार्क टैंक इंडिया का एक बड़ा खुलासा

The cinnamon kitchen: प्रयासा सलूजा ने किया शर्क टैंक को इंप्रेस अपने डेजर्ट के साथ!

Matri: की सफलता रोड से लेकर Shark Tank India के फ्लोर तक | TRN: The Rapid News

Nirma: एक साइकिल पर घूमने वाला इंसान आज 23 हजार करोड़ का मालिक बना !

Nokia XR21: नोकिया के इस नए स्मार्ट फोन ने.., मचाया..,! 

Artificial Intelligence: आपकी नौकरी के लिए खतरा है या फिर वरदान ?

Fabriclore: का मिशन (लक्ष्छ) और वीजन (सोच)क्या था!

Fabriclore: का मिशन और विजन यह था विभिन्न तरीकों से और विरासती फैब्रिक को ऑनलाइन पहुचाए और ग्राहकों को नए और अनोखे कपड़े बनाने का अवसर मिले, फैब्रिक का उद्देश्य तथा कि वे फैब्रिक को एक कला के रूप में प्रस्तुत करें और उसकी गुणवत्ता, रंग, डिजाइन, और इतिहास को सम्मानित करें। उन्होंने अपने ग्राहकों को फैब्रिक के साथ – साथ उसके साथ कहानियां रोचक, तथ्य, टिप्स, और ट्रिक भी बताए और उनका विजन था कि वह को भारत के फैब्रिक इंडस्ट्री को नया तरीका दें और उसे एक वैश्विक स्तर पर ले जाएं।

Fabriclore: को किन-किन दिक्कतों का करना पड़ा सामना। और कैसे किया समाधान!

  • Fabriclore: की गुणवत्ता और विवरण का प्रदर्शन: फैब्रिक को ऑनलाइन बेचने की एक बड़ी चुनौती यह थी कि ग्राहकों को फैब्रिक की गुणवत्ता, रंग, डिजाइन, और अन्य विशेषताओं का अनुभव नहीं होता था। इसके Fabriclore ने अपनी वेबसाइट पर बढ़िया क्वालिटी की फोटो और वीडियो लगाई जो फैब्रिक के बारे में काफी बहुत जानकारियां दीं उसने Fabriclore की लंबाई, चौड़ाई, रंग स्ट्रक्चर, वोरिजिन, वॉशिंग स्ट्रक्चर, और अन्य जरूरी बातें बतायी।
  • फैब्रिक के अपवर्ती और डिलीवरी का प्रबंध: Fabriclore को ऑनलाइन बेचने की दूसरी बड़ी चुनौती फैब्रिक की आपूर्ति और डिलीवरी को सुचारू रूप से सेट करना इसके लिए Fabriclore ने अपने वेंडर्स कोरियर पार्टनर और ग्राहकों के साथ एक मजबूत नेटवर्क बनाया, उन्होंने अपने वेंडर्स से फैब्रिक की गुणवत्ता उपलब्धता और पैकिंग की सेवा का ध्यान रखने को कहा उन्होंने अपने कोरियर पार्टनर से Fabriclore की डिलीवरी को जल्दी और सुरक्षित करने का वादा किया उन्होंने अपने किताबों को फैब्रिक की ट्रैकिंग, रिटर्न, और रिफंड की सुविधा दी।
  • फैब्रिक की डिमांड और प्रतिस्पर्धा का सामना: फैब्रिक को ऑनलाइन बेचने की तीसरी चुनौती फैब्रिक की डिमांड और प्रतिस्पर्धा का सामना करना है, उन्होंने अपने फैब्रिक को भारत की विरासत और संस्कृति कला से जोड़ा उन्होंने फैब्रिक को नए ट्रेडर्स, फैशनस और टेक्नोलॉजी के साथ अपडेट किया।

Fabriclore: ने लिया एक बड़ा डिसीजन। और बढ़ाया अपना बिजनेस।

    1. Fabriclore: ने अपने बिजनेस को बढ़ाने के लिए एक बड़ा डिसीजन लिया वह है शार्क टैंक इंडिया में अपने बिजनेस को पिच करना शार्क टैंक इंडिया जो एक रियलिटी शो है, जहां नए उभरते हुए स्टार्टअप्स अपने बिजनेस आइडिया को लेकर आते हैं, और उन्हें सड़कों से कुछ ना कुछ पाने की कामना रखते हैं।
  • Fabriclore: अपने बिजनेस को पिच करते हुए बताया कि वह भारत की पहली ऑनलाइन फैब्रिक स्टोर है जो भारत की विरासत और संस्कृति कला को फैब्रिक में उतारती है, जैसे सिल्क, चंदेरी, अजरक, कॉटन, रेयन, इकट, लेनन, और वेलवेट को ऑनलाइन बेचती है और साथ ही अपने ग्राहकों को चयन, खरीद, ट्रैकिंग, और रिटर्न की सुविधा भी देती है वह अपने फैब्रिक को नई ट्रेडर्स पैशन और टेक्नोलॉजी के साथ अपडेट करती है।
  • Fabriclore: ने अपने बिजनेस को बढ़ाने के लिए सक जजों से 1.5 करोड़ रुपए का निवेश मांगा इसके बदले में वह अपनी कंपनी का 10% हिस्सा देने को तैयार हुआ था, वह इस निवेश का अपने ब्रांड, बिल्डिंग, मार्केटिंग, इन्वेंटरी, और, टेक्नोलॉजी, को बेहतर बनाने के लिए करना चाहते हैं वह अपने बिजनेस को भारत के साथ-साथ विदेश में भी फैलाना चाहते हैं।
  • शार्क जजों ने Fabriclore के बिजनेस पेज को काफी पसंद किया है और साथ ही उनके बिजनेस की तारीफ भी की है।

Fabriclore: का सपना कैसे हुआ पूरा!

जैसे हर कंपनी का अपना एक अलग सपना होता है वैसे ही  Fabriclore: का भी एक सपना था जो था Fabriclore: को ऑनलाइन लेकर भारत की फैब्रिक को पूरे विश्व में प्रसिद्ध करना और वह उन्होंने अपनी मेहनत और लगन के साथ पूरा कर ही लिया।

ये भी पढ़ें: Oppo Find X7 Ultra फोन खरीदने से पहले 11 बातें जो आपको जानना जरूरी है!

Samsung Galaxy M55: सस्ता का सस्ता चलने मैं भी अच्छा..,है..,।

Iqoo Neo 9 Pro: लांच होने से पहले फोन की कीमत सुनकर जनता में मचा बवाल, पूरी जानकारी अभी देखें!

Vivo X100 5G: लांच होने से पहले फोन की कीमत सुनकर जनता में मचा बवाल, पूरी जानकारी अभी देखें!

iPhone 16 Pro: लांच होने से पहले फोन की कीमत सुनकर जनता में मचा बवाल, पूरी जानकारी अभी देखें!

Fabriclore: ने क्या-क्या सीखा। और क्या खर्च किया!

Fabriclore: ने अपने बिजनेस को बढ़ाने के लिए कई चीज सीखी।

  • Fabriclore: के विभिन्न तरीकों और खूबसूरती को ऑनलाइन ग्राहकों तक पहुंचाना।
  • प्रोडक्ट के साथ कहानी और जानकारी को देना।
  • अपने प्रोडक्ट को नए ट्रेडर्स फैशन और टेक्नोलॉजी के साथ अपडेटकरना।
  • अपने प्रोडक्ट के लिए कोरियर पार्टनर्स और अपने ग्राहकों के साथ एक अच्छा रिश्ता बनाना।
  • अपने बिजनेस को लोगों के सामने अच्छे से रखना।

Fabriclore: ने अपने बिजनेस को बढ़ाने में काफी कुछ खर्च किया।

  • अपने प्रोडक्ट को खरीदने रखने और बेचने के लिए इन्वेंटरी वेयरहाउस और लॉजिस्टिक्स का खर्च। 
  • अपने ब्रैंड को बनाने प्रचारित करने और विस्तारित करने के लिएvमार्केटिंग एडवरटाइजिंग और सोशल मीडिया का खर्च।
  • अपने वेबसाइट अप और ऑनलाइन प्लेटफॉर्म को बनाने और सुधार करने और सुरक्षित रखने के लिए टेक्नोलॉजी डेवलपमेंट और सिक्योरिटी का खर्च।
  • अपने टीम स्टाफ और सहयोगियों को सैलरी देने का खर्च।
  • अपने बिजनेस को साल की टंकी इंडिया में पिच करने के लिए ट्रैवल एक्सप्रेशंस और रजिस्ट्रेशन का खर्च।

Fabriclore: के टॉप 3 प्रोडक्ट!

इसके टॉप 3 प्रोडक्ट को चुनना आसान नहीं है इसलिए अपने हिसाब से थोड़ा-थोड़ा हम बता रहे हैं।

  • Chanderi silk: यह एक बहुत ही पुरानी फेब्रिक है जो मध्य प्रदेश के चंदेरी शहर से आता है यह एक रश्मि और सूती धागे से बनकर तैयार किया जाता है जिसमें जारी का काम होता है। यह एक हल्का चमकीला और शीतल फैब्रिक है जो सडियों कुर्तियों और दुपट्टों के लिए प्रयोग किया जाता है।
  • Ajrakh: यह एक पारंपरिक और बहुत पुराना फैब्रिक है जो गुजरात और राजस्थान के कुछ हिस्सों में बनाया जाता है यह एक ब्लॉक प्रिंटिंग का फैब्रिक है जिसमें खासकर लाल काला नीला भूरा रंग प्रयोग किया जाता है यह एक बहुत ही मेहनती कलात्मक प्रक्रिया से बनाया जाता है।
  • Ikat: यह एक विशेष प्रकार का फैब्रिक है जो धागों को पहले रंग कर फिर बनाकर बनाया जाता है यह एक बहुत ही रंगीन जीवंत और ग्राफिकल फैब्रिक है जिसमें अलग-अलग आरोन प्रिंटर्स और डिजाइन का इस्तेमाल किया जाता है।

Source: chanderisaree,  fabriclor, nomadrugs,

 

Share This Article
Leave a comment